सोलर चरखा योजना | Solar Charkha Yojana

सोलर चरखा योजना | Solar Charkha Yojana In Hindi | सोलर चरखा योजना 2019 | Solar Charkha Yojana | Solar Charkha Yojana 2019

महिलाओं के रोजगार के लिए केंद्र सरकार द्वारा 5 करोड़ नौकरियां निकाली जा रही है। केंद्र सरकार योजना अप्रैल माह से शुरु कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा हर पंचायत में अधिकतम 1100 लोगों को नौकरियां प्रदान करवाएगी। इसलिए केंद्र सरकार यह सरकारी योजना शुरू की जा रही है|

सोलर चरखा योजना

सोलर चरखा योजना

इस योजना के अंतर्गत पूरे देश भर में लगभग 5 करोड़ नौकरियां प्रदान करवाई जाएंगी। सबसे पहले सोलर चरखा योजना महाराष्ट्र राज्य में आरंभ की जाएगी क्योंकि अधिकतम वस्त्र उद्योग महाराष्ट्र राज्य में स्थित हैं। मुख्य रूप से इस योजना का मुख्य उद्देश्य ऐसे समाज का निर्माण करना है जहां हर नागरिक के पास पर्याप्त सामाजिक और आर्थिक अफसर होंगे। इस योजना से खादी वस्त्र उद्योगों को भी काफी बढ़ावा मिलेगा।

सोलर चरखा योजना शुरू करने के उद्देश्य

  • खादी वस्त्रों को बढ़ावा देकर खादी वस्त्र को फिर से पुनर्जीवित किया जाएगा।
  • केंद्रीय सरकार द्वारा गैर परंपरागत सौर ऊर्जा का उपयोग करने के लिए सोलर चरखा योजना शुरु की जा रही है।
  • इस योजना से गरीबी काफी मात्रा तक कम होगी।
  • केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना से खादी वस्त्रों को काफी हद तक बढ़ावा मिलेगा।
  • रोजगार मिलने से हर व्यक्ति की आवश्यकता पूर्ण रूप से पूरी होंगी।

सोलर चरखा योजना के लाभ

  • इस योजना से ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि स्तर और शहरी क्षेत्रों में औद्योगिक स्तर का विकास होगा।
  • इससे भारत के ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा।
  • इस योजना से हर गरीब और जरूरतमंद लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • केंद्रीय सरकार द्वारा शुरू की जा रही इस योजना से सौर ऊर्जा का उपयोग होगा|
  • इससे उसे काफी हद तक बढ़ावा मिलेगा।
  • इस योजना से हर गरीब तथा जरूरतमंद व्यक्ति की जरूरतें पूरी होंगी
  • इस योजना के अंतर्गत पूरे देश में लगभग 5 करोड़ लोगों को नौकरियों दी जाएंगी इसके साथ ही हर पंचायत में लगभग 1100 लोगों को नौकरियां मिलेंगी
Share

6 thoughts on “सोलर चरखा योजना | Solar Charkha Yojana

  1. Prithiviraj Harichandan

    This is a great scheme and would give an assured alternate income to families. GOI should take initiative with State Khadi boards for its massive implementation.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *